Thursday, 5 April 2012

सर्व धर्म सभामंडप मंदिरमें अष्ट ऐश्वर्यलक्ष्मी के सिक्के का चमत्कारी अवतरण


सर्व धर्म सभामंडप मंदिर में अष्ट ऐश्वर्यलक्ष्मी के सिक्के का चमत्कारी अवतरण


श्रद्धा तथा भक्तिभाव से आराधना करनेपर आराध्य अपनेआप प्रकट होते हैं।
नहीं उन्हे प्रकट होना बाध्य होता है।

Figure 1पुज्य शिरड़ी साईबाबा
आमतौर पर कहा जाताहै कि चमत्कार हमेशा नहीं होते। किसी अदभूत घटनाका अकारण होना चमत्कार कहा जाता है। परंतु ग्रुप कैप्टन राकेश नंदा जी के साथ चमत्कार घटित होना एक आम बात होगई है।
उसका ताज़ा उदाहरण है – सर्वधर्म सभामंडप मंदिर में पुज़ा के समय अष्ट ऐश्वर्य महालक्ष्मी का एक सिक्का अवतरित होना।
वे कहते हैं – आज गुरूवार,दि. 23 फरवरी 2012, हमेशाकी तरह सुबह साडेदस के करीब हम बंगलुरु कैंट रेल्वे स्टेशन के समीप मुवमेंट कंट्रोल ऑफिसके कर्मचारी तथा मैं, कुछ बाहरसे आए अतिथियोंके साथ शिरडी साईबाबा तथा अन्य धर्मों के महापुरुषोंके सभामंडप में पुजा के लिए उपस्थित थे।पुजा के बीच अचानक खन्नकर आवाज़ आई, जैसे किसी के जेब़से सिक्का गिराहो। पर वहां खड़े हम सब देखकर हैरान हुए के वह आवाज़ पुज्य साईबाबा की मुर्ती के समीप स्थित सुनहरे रंग के सिक्के की थी!पुजा भी थोड़ी काल के लिएरुक गई और हरएक उस महालक्ष्मीके सुनहरे सिक्के के अचानक आगमनसे भौंचक्का रह गया !
आरती के पश्चात ग्रुप कैप्टन राकेश नंदा जी ने उस सिक्के को परखा। सिक्के एक तरफ कमलास्थित  महालक्ष्मी का सुंदर चित्र है तथा उसके की दुसरी तरफ अष्टलक्ष्मी योगमायायंत्र है। राकेशजीने उपस्थित प्रत्यक्षदर्शियों के हाथ में उसे देकर उन्हे उपकृत किया । सब के सामने हुई अदभूत घटना के फोटो लिए गए।पुज्य साईबाबा को मनसे धन्यवाद किया तथा आनेवाले समय में ऐसेही कृपादृष्टी रखे रहने की प्रार्थना की।
कलियुग में सुनहरे सिक्के के अवतरण जैसी अदभूत घटनाएं होती है तो हमारा विज्ञानवादी मन उसे मानने के लिए तैयार नहीं होता। परउस घटनाकेप्रत्यक्षदर्शींयों के नाम तथा अनुभव कथन सुनकर, फोटो देखकरमन की आशंकाएं दुर हो जाती है। फिर मानना पडता है किश्रद्धा तथा भक्तिभाव से आराधना करनेपर आराध्य अपनेआप प्रकट होते हैं। नहीं उन्हे प्रकट होना बाध्य होता है। यही इस घटना का सार है।
Figure 2 पुज्य साईबाबाकी मुर्तीके समीप ग्रुप कैप्टन राकेश नंदा तथा एक सहकर्मी
कर्मचारीतथा अन्यउपस्थित गण –श्री. दिनेश, श्री. सुरेश, नाईक गौडर, पोलिस इन्सपेक्टर रत्नाकर शेट्टी, तथा मुंबई से एक कंपनी के मैनेजिग डायरेक्टर श्री शेट्टीऔर
ग्रुप कैप्टन राकेश नंदा - कमांडिंग अफसर,MCO, 160 MC/MF Detachment